How to Masturbation
Man unbuckling belt. Attractive male body close up.

How to Masturbation

what is masturbation?(हस्तमैथुन क्या है )

masturbation  के कुछ फायदे

मैस्टबेरशन एक सेक्सुअल एक्सप्रेशन
दुनिया भर की कई हेल्थ रिपोर्ट की स्डटी करें तो पता चलता है कि मैस्टरबेशन सेक्सुअली टेंशन को कम करने का सबसे अच्छा और हेल्दी तरीका है। हेल्थ प्रफेशनल्स के मुताबिक अपने प्राइवेट पार्ट को टच करना बेहद नैचरल है। ऐसे में मैस्टबेशन को सेक्सुअल एक्सप्रेशन के रूप में ही देखा जाना चाहिए।

आनंद में कोई कमी नहीं
पुरुषों के मुकाबले महिलाओं का ऑर्गेजम (चरम आनंद) ज्यादा कॉम्पलेक्स होता है। पुरुषों को सामान्यतः स्पर्म निकलते वक्त आनंद आता है। अधूरी उत्तेजना और गलत सेक्स टेक्नीक महिलाओं के ऑर्गेजम को कम करता है। वक्त से पहले स्पर्म का गिरना और फोरप्ले में कमी महिलाओं के आनंद को कम करता है।

कितना मैस्टरबेशन बहुत ज्यादा
इसका कोई कट पॉइंट्स नहीं है। यह उस व्यक्ति पर निर्भर करता है, लेकिन औसत देखा जाए तो हफ्ते में तीन बार ठीक है।

masturbation

Masturbation is right or wrong

मैस्टरबेशन नैचरल है
मैस्टरबेशन पूरी तरह से नैचरल प्रक्रिया है। इससे प्रजनन क्षमता पर किसी भी तरह का बुरा प्रभाव नहीं पड़ता है। सेक्सुअली कमजोरी और कामुकता में कमी की बात भी पूरी तरह से अफवाह है। यहां तक कि जानवरों में बिल्ली, कुत्ते और बंदर भी मैस्टरबेशन करते हैं।

मैस्बेरशन से टेंशन खत्म
मैस्टरबेशन के दौरान धड़कन बढ़ जाती है। ब्लड का फ्लो भी बढ़ता है और मसल में सख्ती आती है। इन सारी शारीरिक प्रक्रियाओं के कारण तनाव से मुक्ति मिलती है। जैसे कि आप सेक्स के बाद राहत और तनाव से मुक्त महसूस करते हैं।

मैस्टरबेशन पूरी तरह से सेफ
अपनी कामुकता को काबू में रखने के लिए मैस्टरबेशन पूरी तरह से सेफ प्रक्रिया है।

सेक्सुअली डिसफंक्शन पर काबू
यदि पुरुष या महिला सेक्सुअली डिसफंक्शन से पीड़ित हैं तो मैस्टरबेशन से कई चीजें समझ सकते हैं। यदि पुरुषों में सेक्स के दौरान वक्त से पहल स्पर्म गिरने की समस्या है तो मैस्टरबेशन को लर्निंट टूल की तरह इस्तेमाल कर सकते हैं। आप इसमें सीख सकते हैं कि खुद पर कंट्रोल कैसे किया जाता है।

मैस्टरबेशन से रात में अच्छी नींद
जब आप सेक्सुअल क्लाइमेक्स पर होते हैं और फील गुड जोन में पहुंच जाते हैं तो इसका मतलब यह हुआ कि हॉर्मोन्स निकल चुके हैं। जब ऑक्सिटॉक्सिन और एंडोर्फिन हॉर्मोन्स रिलीज हो जाते हैं, तब आप फील गुड जोन में होते हैं। मैस्टरबेशन के दौरान इन हॉर्मोन्स के निकल जाने के बाद आप बेफिक्र होकर बिना किसी बेचैनी के सोते हैं। अच्छी नींद अच्छी सेहत के लिए बेहद जरूरी है। बहुत ही थकाऊ दिन के बाद रात में अच्छी नींद के लिए मैस्टरबेशन एक शानदार प्रक्रिया है।

masturbation

मास्टरबेशन खुद को सैटिस्फाई करने का हेल्दी तरीका माना जाता है, लेकिन हर चीज की तरह इसकी भी अति व्यक्ति को कई तरह से नुकसान पहुंचा सकती है।

मास्टरबेशन के होते हैं साइड इफेक्ट्स(Side effect of masturbation)

मास्टरबेशन की सलाह कई सेक्स एक्सपर्ट देते हैं, लेकिन इसकी आदत पड़ जाना न सिर्फ आपकी मेंटल हेल्थ पर असर डालता है बल्कि रिलेशनशिप को भी बिगाड़ सकता है। इतना ही नहीं यह आपकी सोशल लाइफ में भी दखल डाल देता है। चलिए जानते हैं मास्टरबेशन से जुड़े ऐसे ही कुछ नुकसान के बारे में:

ध्यान केंद्रित करने में दिक्कत

मास्टरबेशन की लत लग जाने पर किसी भी काम पर ध्यान देने में दिक्कत होने लगेगी। आपकी बॉडी बार-बार आपको मास्टरबेट करने के लिए रिऐक्ट करेगी, जिससे जब तक आप बॉडी टेंशन रिलीज नहीं करेंगे तब तक काम नहीं कर पाएंगे। मास्टरबेट करने के लिए आपको वर्क बीच में छोड़ना पड़ेगा, जो परफॉर्मेंस पर असर डालेगा।

बेड में परफॉर्मेंस
मास्टरबेट करने के दौरान आपकी जो इमेजिनेशन होता है या आप जो स्पीड कैरी करते हैं वैसा यौन संबंध बनाने के दौरान मेनटेन करना मुश्किल है, ऐसे में पार्टनर के साथ सेक्स के दौरान आप अच्छा परफॉर्म नहीं कर पाते जो आपके साथ ही उसे भी असंतुष्टी देगा और रिश्ते पर असर डालेगा।

रिलेशनशिप पर असर
मास्टरबेशन के कारण व्यक्ति खुद की सैटिस्फाई कर लेता है, ऐसा बार-बार होने पर पार्टनर और उसके बीच के सेक्स रिलेशन पर असर पड़ने लगता है। मास्टरबेट करने पर पार्टनर के साथ यौन संबंध बनाने की इच्छा में भी कमी जाती है जो रिलेशनशिप पर प्रेशर बढ़ा देता है।

masturbation right in penis 
 

एक दिन में कई बार मास्टरबेट करने पर पीनस पर भी बुरा असर पड़ता है। एक स्टडी के मुताबिक, ऐसा होने पर पीनस की मसल्स पर प्रेशर बढ़ जाता है जिससे उसे इरेक्शन में दिक्कत होने लगती है।

सोशल सर्कल से कटाव
एक स्टडी में सामने आया था जो लोग रोजाना मास्टरबेट करते हैं उनका सोशल लाइफ से कटाव ज्यादा होता है। इसकी प्रमुख वजह उनकी कभी भी मास्टरबेट करने की इच्छा हो जाना है, जो लोगों के बीच रहते हुए करना संभव नहीं है। इसका असर धीरे-धीरे व्यक्ति की मेंटल हेल्थ पर भी पड़ने लगता है।

लोगो द्वारा पूछे जाने वाले सवाल -

1.क्या हस्थ्मैथुन सही है ?

उत्तर – हाँ हस्थ्मैथुन सही है 

2.हस्थ्मैथुन कितनी बार कर सकते है ?

उत्तर- आप  सप्ताह में लगभग दो से तीन बार हस्थ्मैथुन कर सकते  है 

3.हस्थ्मैथुन करने से कोई नुकसान तो नहीं है ?

उत्तर- हाँ , आप अगर लगातार हस्थ्मैथुन करते है तो आपके स्पर्म क्षमता में कमी आ सकती है 

4.क्या लडकिया भी हस्थ्मैथुन करती है ?

उत्तर – हाँ लडकिया  भी हस्थ्मैथुन करती है | 

This Post Has 2 Comments

  1. Karuna

    👍👍👍👍

Leave a Reply